शिवरीनारायण : माता शबरी का आश्रम

Shivri Narayana temple

रामायण में एक प्रसंग आता है  जब देवी सीता को ढूंढते हुए भगवान राम और लक्ष्मण दंडकारण्य में भटकते हुए  माता शबरी के आश्रम में पहुंच जाते हैं। जहां शबरी उन्हें अपने जूठे बेर खिलाती है जिसे राम बड़े प्रेम से खा लेते हैं। माता शबरी का वह आश्रम छत्तीसगढ़ के शिवरीनारायण में शिवरीनारायण मंदिर परिसर में स्थित है। महानदी, जोंक और शिवनाथ नदी के तट पर स्थित यह मंदिर व आश्रम प्रकृति के खूबसूरत नजारों से घिरे हुए है। शिवरी नारायण मंदिर के कारण ही यह स्थान छत्तीसगढ़ की जगन्नाथपुरी के नाम से प्रसिद्ध हुआ है | मान्यता है कि इसी स्थान पर प्राचीन समय में भगवान जगन्नाथ जी की प्रतिमा स्थापित रही थी,  शिवरी नारायण  छत्तीसगढ़ के जांजगीर चापा  जिले में आता है  इस मंदिर को माता शबरी के कारण शबरी नारायण भी कहा जाता था जो की बाद में शिवरीनारायण के नाम से प्रचलित हुआ

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*