इस लाइब्रेरी में बनाई जाती थी स्वतंत्रता आन्दोलन की रणनिति |

Apna Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में स्थित आनंद समाज लाइब्रेरी न सिर्फ आजादी की लड़ाई से ही जुड़ी है, बल्कि यहां की किताबें भी इतिहास बयां करती हैं। यहां 1865 से लेकर आजादी तक और इसके बाद की भी कई महत्वपूर्ण किताबें मौजूद हैं। रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा इस भवन का जीर्णोद्धार करने के साथ ही यहां मौजूद पुरानी किताबों को भी संजोने की कवायद की जा रही है। रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड के डायरेक्टर रजत बंसल ने मंगलवार को आनंद समाज लाइब्रेरी भवन के जीर्णोद्धार कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि भवन के भीतर घुसते ही लोगों को अहसास होगा कि यह भवन आजादी के आंदोलन से जुड़ा हुआ है। आजादी के आंदोलन के समय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी इस भवन में जुटकर आंदोलन की योजना बनाते थे। इसी भवन के सामने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने नागरिकों को संबोधित किया था। उन्होंने असहयोग आंदोलन में सहयोग के लिए उपस्थित लोगों से चंदा देने का आह्वान किया तो महिलाओं ने अपने सोने के गहने तक दान कर दिए थे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*