छत्तीसगढ़ में बड़े पैमाने पर साल के उत्पादन की तैयारी की जा रही है

Produse to Saal Tree | Apna Chhattisgarh

प्राकृतिक रूप से पैदा होने वाले साल (सरई) के पौधे भी अब दोबारा तैयार हो सकेंगे। छत्तीसगढ़ में इस संबंध में प्रयोग को अच्छी सफलता मिली है। छत्तीसगढ़ राज्य औषधि पादप बोर्ड द्वारा साल (सरई) पौधे के पुनरूत्पादन के विषय में तैयार किए गए रिसर्च पेपर का प्रकाशन अंतर्राष्ट्रीय अनुसंधान के क्षेत्र की प्रतिष्ठित पत्रिका एसएस पब्लिकेशन, डेलावारे संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में होने जा रहा है।

आपको बता दें कि साल के वृक्ष के रोपण की तकनीक पर सालों रिसर्च किया गया लेकिन सफलता तब मिली जब वनवासियों के पारंपरिक तरीके को अपनाया गया। छत्तीसगढ़ राज्य वनौषधि पादप बोर्ड के सदस्यों ने मैनेजिंग डायरेक्टर पीसीसीएफ शिरीष चंद्र अग्रवाल और एथिक्स फार्मा के सीईओ योगेंद्र चौधरी के नेतृत्व में साल के रोपण की तकनीक पर काम किया। टीम के इस रिसर्च को अंतरराष्ट्रीय साइंस जर्नल एसएस पब्लिकेशन, डेलावारि, यूएसए ने प्रकाशित करने की सहमति भी दी है।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*